नकदी फसल और रोपण फसल में क्या अंतर है?

By Raj Vimal|Updated : September 6th, 2022

रोपण फसल कृषि एक विशेष प्रकार की फसली कृषि है जिसमे केवल एक ही प्रकार की फसल के उत्पादन ध्यान दिया जाता है। वहीँ नकदी फसल उस कृषि को कहते हैं जिनका उद्देश्य केवल उन्हें बेच देना होता है। नीचे हमने नकदी और रोपण फसल का अंतर लिखा है।

नकदी फसल और रोपण फसल में अंतर

इसमें कोई दो राय नहीं है कि भारत एक कृषि प्रधान देश है और देश के राजस्व का एक बड़ा भाग यहाँ से आता है।नीचे का टेबल आपको नकदी और रोपण में फर्क समझने में मदद करेगा।

नकदी फसल

रोपण फसल 

इसके उत्पादन को बाजार में बेचकर नकद रूपये प्राप्त किया जाता है।

जिसे एक बार लगाकर लम्बे समय इसका उत्पादन किया जाता है।

अवधि 90 से 120 दिनों तक होती है।

इसकी अवधि एक वर्ष से अधिक की होती है।

आम, केला, लीची और अन्य फल आदि इसके उदाहरण हैं।

कहवा, रबड़, कोको, नारियल आदि इसके उदाहरण हैं।

Summary

नकदी फसल और रोपण फसल में क्या अंतर है?

नकदी फसल और रोपण फसल में अंतर यह है कि नकदी फसल छोटे समय के लिए और बाजारों में बेच के धन कमाने के लिए उपजाई जाते हैं। वहीँ रोपण फसल का उद्देश्य लम्बे समय तक उनकी उपज करना होता है।

Comments

write a comment

Follow us for latest updates