जलियांवाला बाग हत्याकांड कब हुआ था?

By K Balaji|Updated : December 29th, 2022

13 अप्रैल 1919 को जलियांवाला बाग हत्याकांड हुआ था। यह तारीख भारत के इतिहास का सबसे काले दिनों में याद किया जाता है। इस दिन देश को को ऐसे जख्म मिले जिसे आज भी नहीं भुलाया जा सकता है। साल 1919 में 13 अप्रैल को अमृतसर के स्वर्ण मंदिर के निकट जलियांवाला बाग की घटना हुई। नरसंहार जनरल डायर ने किया था क्योंकि वह उस समय लोगों के जमावड़े के खिलाफ था। उन्होंने मार्शल लॉ लागू किया था। इस नरसंहार के माध्यम से वह यह संदेश भी फैलाना चाहते थे कि भारत में ब्रिटिश उपनिवेशों के शासन की कोई अवज्ञा नहीं होगी।

जलियांवाला बाग हत्याकांड

13 अप्रैल, 1919 को बैसाखी के अवसर पर बड़ी संख्या में लोग जलियांवाला बाग (अमृतसर) में एकत्रित हुए और सत्य पाल और डॉ. सैफुद्दीन किचलू की गिरफ्तारी के विरोध में एक सभा का आयोजन कर रहे थे। दूसरी ओर एक ब्रिटिश सैन्य अधिकारी जनरल डायर ने अभिव्यक्ति की आवाज को दबाने के लिए कर्फ्यू लगा दिया था।

कई महिलाओं, बच्चों और पुरुषों ने शांतिपूर्वक अंग्रेजों का विरोध करने के लिए जलियांवाला बाग तक मार्च किया। इस बीच, जनरल डायर ने सैनिकों को निहत्थे भीड़ पर गोलियां चलाने का निर्देश दिया। लगभग 400 लोग मारे गए, 2000 से अधिक घायल हुए, और कई परिवार बिखर गए। 13 मार्च, 1940 को, लगभग 21 साल बाद, एक भारतीय क्रांतिकारी उधम सिंह ने जलियांवाला बाग हत्याकांड के समय पंजाब के लेफ्टिनेंट गवर्नर माइकल ओ डायर की हत्या कर दी थी।

  • इस नरसंहार ने भारतीय लोगों के रोष को भड़का दिया और सरकार ने अधिक क्रूरता के साथ प्रतिक्रिया दी। जलियांवाला बाग को अब राष्ट्रीय स्मारक घोषित कर दिया गया है।
  • नरसंहार के तीन महीने बाद, जुलाई 1919 में, अधिकारियों को यह निर्धारित करने का काम सौंपा गया था कि शहर के निवासियों को स्वेच्छा से उन लोगों के बारे में जानकारी देने के लिए आमंत्रित किया गया था जो मारे गए थे।
  • यह जानकारी इस डर के कारण अधूरी थी कि जिन लोगों ने भाग लिया उनकी पहचान बैठक में उपस्थित होने के रूप में की जाएगी, और कुछ मृतकों के क्षेत्र में करीबी रिश्तेदार नहीं हो सकते थे।

Summary: 

जलियांवाला बाग हत्याकांड कब हुआ था?

जलियांवाला बाग हत्याकांड 13 अप्रैल 1919 को हुआ था। यह भारत की गुलामी के दौर में हुई सबसे बड़े नरसंहारों में से एक है। जनरल डायर ने बाग को घेर कर निहत्थी भीड़ पर गोलियां चलवाई थी। इस नरसंहार में सैकड़ों लोग मारे गए थे और हजारों घायल हुए थे।

Related Questions:

Comments

write a comment

Follow us for latest updates