मृदा क्षरण को कैसे रोका जा सकता है?

By Sakshi Yadav|Updated : September 5th, 2022

मृदा क्षरण को वृक्षारोपण, बाढ़ पर नियंत्रण कर, वनों और जीवों रक्षा, भूमि उद्धार और, समोच्चरेखीय जुताई तथा शस्यार्वतन आदि से रोका जा सकता है। मृदा क्षरण एक प्राकृतिक घटना है, जिसमें पानी और हवा जैसे भौतिक कारक ऊपर की मिट्टी को ले जाते हैं या विस्थापित करते हैं।

मृदा अपरदन को रोकने के उपाय निम्नलिखित हैं:

वनस्पति: यह पौधों द्वारा प्रदान किया जाने वाला एक जमीनी आवरण है, इस उपाय के कारन पौधों की जड़ें मिट्टी को पकड़ लेती हैं और मिट्टी के कटाव को रोकती हैं।

मिटटी को चटाई बनाना: छोटे पौधों की वृद्धि के लिए मिट्टी के ऊपर कंबल की तरह सुरक्षा कवच लगाने से भी मृदा अपरदन को रोकने में मदद मिलती है।

मल्च का अनुप्रयोग: यह मिट्टी की सतह पर लागू सामग्री की एक परत है, जो मिट्टी की गुणवत्ता और धारण क्षमता को बेहतर बनाती है।

विंडब्रेकर का निर्माण: यह तेज हवा के कारण होने वाले मिट्टी के कटाव को रोकता है।

Summary

मृदा क्षरण को कैसे रोका जा सकता है?

रोपण वनस्पति, समोच्च खेती, मल्च लगाना, अतिचारण से बचना, वनरोपण, प्लास्टिक शीटिंग का प्रयोग और सिल्ट फेंसिंग के उपयोग से मृदा क्षरण को रोका जा सकता है। जल, वायु तथा मानवीय क्रियाओं द्वारा ऊपरी मृदा को हटाना मृदा क्षरण कहलाता है।

Related Links:

Comments

write a comment

Follow us for latest updates