मोल संकल्पना क्या है?

By Raj Vimal|Updated : September 8th, 2022

मोल किसी पदार्थ की वह मात्रा या इकाई है। उदाहरण के लिए ताप का मात्रक सेल्सियस और लम्बाई का मात्रक मीटर आदि। आसान भाषा में मोल संकल्पना के अनुसार एक मोल किसी पदार्थ की वह मात्रा है, जिसमें उतने ही कण (Chemical Units) होते हैं, जितने शुद्ध C12 समस्थानिकों के 12g में परमाणुओं की संख्या होती है।

अवोगाद्रो संख्या क्या है?

किसी भी तत्व या पदार्थ के एक मोल में उपस्थित कणों की संख्या को आवगार्दो संख्या (Avogadro Constant) कहते हैं। आवोगाद्रो संख्या का मान 6.022 × 10- 23 होता है और यही एक मोल का मान होता है।

मोलर द्रव्यमान क्या होता है?

किसी पदार्थ के 1 मोल (Mole) के ग्राम(Gram) में लिखने पर प्राप्त द्रव्यमान को मोलर द्रव्यमान कहते हैं। उदाहरण के लिए शुद्ध जल का मोलर द्रव्यमान 18.02 g mol-1 होता है।

Summary

मोल संकल्पना क्या है?

मोल संकल्पना के अनुसार पदार्थ के परमाणु अथवा अणु के एक ग्राम आण्विय द्रव्यमान को एक मोल कहा जाता है। एक मोल में 6.022 x 10 -23 परमाणु अथवा अणु होते हैं।

Comments

write a comment

Follow us for latest updates