जैव विविधता के तीन आवश्यक घटकों के नाम बताइए।

By Raj Vimal|Updated : September 5th, 2022

जैव विविधता दो शब्दों से मिलकर बना है, “Bio” अर्थात जैव और “Diversity” का अर्थ विविधता से है। जैव विविधता के तीन अवशक घटक अनुवंशिक विविधता, जातीय विविधता और पारिस्थितिकीय विविधता ही जैवविविधता के तीन घटक हैं। आसन भाषा में कहें तो एक निश्चित इलाके में पाए जाने वाले जंतु और उनकी विविधता को ही जैव विविधता कहते हैं।

जैव विविधता के तीन आवश्यक घटकों के प्रकार

नीचे हमने जैव विविधता के घटकों को विस्तार से लिखा है, जिससे छात्रों को इनके बारे में बेहतर तरह से समझ में आ सके और वह प्रतियोगी परीक्षाओं में अच्छे अंक भी ला सकें।

नुवंशिक विविधता (Genetic Biodiversity)- जैव विविधता के इस घटक का आशय है एक ही तरह के अलग-अलग जीवों के शारीरिक जीनों में होने वाले परिवर्तन से है। 

जातीय विविधता - जातीय विविधता को प्रजातीय विविधता भी कहते हैं। इस घटक का आशय प्रजातियों की संख्या अथवा विविधता से है। विभिन्न प्रजाति स्पष्ट रूप से भिन्नता होती है जिसका कारण उनका प्रजनन का तरीका है

पारिस्थितिकीय विविधता- पारिस्थितिक विविधता का आशय किसी भौगोलिक क्षेत्र में पारिस्थितिक तंत्रों की विविधता से है।

Summary

जैव विविधता के तीन आवश्यक घटकों के नाम बताइए

जैवविविधता के तीन घटक आनुवंशिक विविधता, जातीय विविधता और पारिस्थितिकीय विविधता हैं। इन घटकों के कारण ही एक ही तरह के जीवों में विभिन्न गुण होते हैं, इस विज्ञान को समझने में भी मदद करता है।

Related Articles

Comments

write a comment

Follow us for latest updates