UGC NET Study Notes on Theories of Leadership - Part 2

By Shalini Tyagi|Updated : June 11th, 2021

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                         

नेतृत्व के सिद्धांत

1- नेतृत्व का संदर्भपरक सिद्धांत

  • संदर्भपरक सिद्धांत किसी नेता के व्यक्तिगत गुणों या विशेषताओं पर बल नहीं देता है, परंतु जिस स्थिति में वह काम करता है उस पर बल देता है।
  • एक अच्छा नेता वही है जो उर्जावान हो और किसी भी परिस्थिति के अनुसार खुद को ढाल सके।
  • इसे नेतृत्व का आसंग सिद्धांत भी कहा जाता है।

ये सिद्धांत हैं:

A- फिडलर का आसंग मॉडल

  • फ्रेड ई. फिडलर को मुख्य रूप से नेतृत्व के आसंग सिद्धांत के जनक के रूप में जाना जाता है।
  • नेता या तो कार्य-उन्मुख या संबंध-उन्मुख होते हैं।
  • कार्य-उन्मुख नेता निर्देशात्मक होते हैं, समय सीमा निर्धारित करते हैं और कार्य निर्धारण करते हैं।
  • संबंध उन्मुख नेता व्यक्ति उन्मुख होते हैं, विचारशील होते हैं और दृढ़ता से निर्देश नहीं देते हैं।
  • फिडलर के अनुसार कार्य-उन्मुख नेता सामूहिक परिस्थितियों के चरम पर होने पर सबसे अच्छा प्रदर्शन करते हैं अर्थात, नेता के लिए बहुत अनुकूल या बहुत प्रतिकूल। संबंध उन्मुख नेता उन स्थितियों में बेहतर प्रदर्शन प्रदान करते हैं जिनकी अनुकूलता कम होती हैं।
  • स्थितिजन्य चर जो यह निर्धारित करते हैं कि क्या दी गई स्थिति नेताओं के अनुकूल है, वे हैं:
    • नेता-सदस्य संबंध - समूह के सदस्यों के साथ नेता के व्यक्तिगत संबंध।
    • कार्य संरचना - कार्य में आदेश और संरचना का स्तर जिसे समूह को दिया गया है।
    • पद शक्ति - वह अधिकार और शक्ति जो उनके पदनाम या पद उन्हें प्रदान करता है।

B- हरसे-ब्लेंचार्ड स्थितिपरक मॉडल

  • इसे नेतृत्व का जीवन चक्र सिद्धांत भी कहा जाता है।
  • यह मॉडल तीन कारकों पर आधारित है:
    • कार्य व्यवहार – इसका अर्थ नेताओं का अपने समूह के सदस्यों को कार्य और भूमिकाएं परिभाषित करने और व्यवस्थित करना तथा यह समझाना कि उन्हें क्या और कब करना चाहिए।
    • संबंध व्यवहार - नेताओं और उनके समूह के सदस्यों के बीच एक व्यक्तिगत संबंध को पोषित करना।
    • परिपक्वता स्तर - परिपक्वता का अर्थ उच्च लेकिन प्राप्य लक्ष्यों को निर्धारित करने और उत्तरदायित्व लेने तथा शिक्षा या अनुभव अथवा दोंनो का उपयोग करने की क्षमता है।

अधीनस्थों की परिपक्वता स्तर के अनुसार, नेतृत्व शैली 4 प्रकार की होती है। वे हैं:

  • प्रभावपूर्ण शैली – इस शैली का प्रयोग अधिक कार्य और सीमित संबंध व्यवहार चरण के दौरान किया जाता है जहां अधीनस्थों में कम परिपक्वता होती है। निर्देशन व्यवहार पर प्रकाश डालता है।
  • विक्रय शैली - जब अधिक कार्य और उच्च संबंध व्यवहार होता है, तो अधीनस्थों को सहायक और निर्देश दोनों व्यवहार की आवश्यकता होती है।
  • सहभागी शैली – इसे उच्च संबंध और निम्न कार्य व्यवहार स्तर के लिए उपयोग किया जाता है, जहां अधीनस्थों में मध्यम से उच्च परिपक्वता होती है।
  • प्रतिनिधि शैली – इसका प्रयोग कम कार्य और कम संबंध व्यवहार स्तर होने पर किया जाता है। यहां अधीनस्थ बहुत अधिक परिपक्व होते हैं।

यह मॉडल किसी भी शोध के निष्कर्ष पर आधारित नहीं है। यह केवल एक स्थितिगत पहलू अधीनस्थों की परिपक्वता स्तर पर बल देता है।

C- हाउस पैथ- लक्ष्य सिद्धांत

  • रॉबर्ट हाउस ने ओहियो स्टेट लीडरशिप स्टडीज और व्रूम के प्रत्याशा प्रेरणा मॉडल के आधार पर अपने सिद्धांत को आगे बढ़ाया।
  • इसके अनुसार एक नेता का काम, कार्य करने ले लिए वातावरण (उचित संरचना, पर्याप्त समर्थन और पुरस्कार के माध्यम से) बनाना है जो कर्मचारियों को एक सफल तरीके से संगठनात्मक लक्ष्यों तक पहुंचने में मदद करता है।
  • लक्ष्य को प्राप्त करने और लक्ष्यप्राप्ति की दिशा में सुधार करने में महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभाना।
  • सिद्धांत को पैथ-लक्ष्य कहा जाता है क्योंकि इसका प्रमुख चिंतन है कि कैसे नेता अपने अनुयायियों के कार्यात्मक लक्ष्यों के दृष्टिकोण, व्यक्तिगत लक्ष्यों और लक्ष्य प्राप्ति के मार्ग को प्रभावित करता है।
  • सिद्धांत नेता के चार व्यवहारों को प्रदर्शित करता है, वे हैं निर्देश, सहायक, सहभागिता, उपलब्धि उन्मुख होना।
  • ये सभी नेतृत्व शैली कुछ स्थितियों में अच्छी तरह से काम करती हैं, लेकिन अन्य में उपयुक्त नहीं हो सकती हैं। स्थितिजन्य चर के 2 समूहों पर विचार किया जाता है - अधीनस्थों की विशेषताएं और कार्य पर्यावरण।

D- व्रूम, येटन और जागो का आसंग मॉडल

  • यह विक्टर व्रूम और फिलिप येटन द्वारा विकसित किया गया बाद में आर्थर जागो भी इसमें शामिल हो गए।
  • मॉडल उस स्थिति पर बल देता है, जिसमें कर्मचारियों को निर्णयों में भाग लेने की अनुमति दी जानी चाहिए।
  • मॉडल इस धारणा पर आधारित है कि स्थितिजन्य चर नेता की व्यक्तिगत विशेषताओं से संबंधित होते हैं, जिसके परिणामस्वरूप नेता का व्यवहार संगठन की प्रभावशीलता को प्रभावित कर सकता है।
  • विचार करने योग्य तीन कारक:
    • निर्णय की गुणवत्ता
    • निर्णय की स्वीकृति
    • निर्णय का समय
  • इस सिद्धांत के अनुसार, कई अधीनस्थों वाले नेता 5 मूलभूत निर्णय शैलियों का प्रयोग करते हैं। य़े हैं:
    • औटोक्रेटिक AI - नेता निर्णय लेता है और समस्या का हल स्वयं करता है
    • औटोक्रेटिक AII - नेता अपने अधीनस्थों से जानकारी प्राप्त करता है, फिर स्वयं समस्या के समाधान पर निर्णय लेता है। अधीनस्थ केवल सूचना स्रोत के रूप में कार्य करते हैं।
    • कंसलटेटिव CI - नेता प्रत्येक अधीनस्थ के साथ समस्या को व्यक्तिगत आधार पर साझा करता है और समस्या पर उनके सुझाव तथा विचार प्राप्त करता है। वह अधीनस्थों को एक समूह के रूप में एक साथ नहीं लाता है।
    • कंसलटेटिव CII - समस्या को अधीनस्थों के साथ एक समूह के रूप में, सामूहिक रूप से विचारों और सुझावों को प्राप्त करने के लिए साझा किया जाता है।
    • समूह आधारित GII - नेता और अधीनस्थ समस्या पर चर्चा करने के लिए एक समूह के रूप में मिलते हैं, और समूह निर्णय लेता है।

 2- रचनांतरणपरक नेतृत्व सिद्धांत

byjusexamprep

  • बर्नार्ड मॉस के अनुसार, यह नेतृत्व चार व्यवहारिक घटकों पर बल देता है - प्रेरणा, बौद्धिक प्रोत्साहन, व्यक्तिगत विचार और प्रतिभा या आकर्षण।
  • रचनांतरणपरक नेता, सबसे पहले अपने अनुयायियों को कार्य के उद्देश्यों और उनके परिणामों के महत्व से अवगत कराते हैं।
  • इन व्यवहारों के विभिन्न संयोजनों का प्रदर्शन करके, नेता अनुयायियों को उनके बेहतर जीवन की ओर ले जाते हैं।

3- संव्यवहार नेतृत्व सिद्धांत

  • जे एम बर्न्स ने दो प्रकार के नेतृत्व की पहचान की, संव्यवहार और रचनांतरणपरक।
  • संव्यवहार संबंध में नेता और अनुयायियों के मध्य एक विनिमय संबंध होता है।
  • संव्यवहार नेतृत्व में नेताओं और अनुयायियों के बीच दुविधा भरा संबंध होता है। संव्यवहार नेताओं की शक्ति संगठन में उनके औपचारिक अधिकार और उत्तरदायित्व से से उत्पन्न होती है। अनुयायी का प्राथमिक लक्ष्य नेता के निर्देशों का पालन करना होता है। नेता अनुयायियों को पुरस्कार और दंड प्रणाली के माध्यम से प्रेरित करने में विश्वास रखता है।

Mock tests for UGC NET Exam

UGC NET Online Coaching

Thanks!

Comments

write a comment

Related Posts

What are Kuppia and Kuffia?
What are Kuppia and Kuffia?Yesterday, 1 pm|1 upvotes

UGC NET & SET

UGC NETKSETTNSET ExamGSET ExamMH SETWB SETMP SETSyllabusQuestion PapersPreparation
tags :UGC NET & SETPaper IIUGC NET OverviewUGC NET Admit CardUGC NET SyllabusUGC NET Preparation TipsUGC NET Books

Follow us for latest updates