स्वतंत्र भारत के पहले और अंतिम भारतीय गवर्नर-जनरल कौन थे?

By Sakshi Yadav|Updated : September 1st, 2022

स्वतंत्र भारत के पहले गवर्नर-जनरल लॉर्ड माउंटबेटेन और सी. राजगोपालाचारी अंतिम गवर्नर-जनरल थे। लॉर्ड माउंटबेटेन गवर्नर-जनरल के अलवा अंतिम वायसराय भी थे जिनका कार्यकाल 1947 से 1948 तक रहा वही, सी. राजगोपालाचारी ने 1948 से 1950 तक भारत के अंतिम गवर्नर जनरल का कार्यकाल संभला था।

  • लॉर्ड माउंटबेटन ने मई 1947 में एक योजना प्रस्तावित की जिसके अनुसार प्रांतों को स्वतंत्र उत्तराधिकारी राज्य घोषित किया जाना था, जिसमें यह चुनने की शक्ति थी कि संविधान सभा में शामिल होना है या नहीं।
  • वो भारत और पाकिस्तान के विभाजन के दौरान भारत के अंतिम वायसराय थे।
  • चक्रवर्ती राजगोपालाचारी स्वतंत्र भारत के एकमात्र भारतीय गवर्नर-जनरल। 
  • वह 1959 में स्वतंत्र पार्टी के संस्थापक थे। 
  • उन्होंने, गांधी जी के पेपर यंग इंडिया का संपादन किया, जब गांधी 1920 के दशक की शुरुआत में जेल में थे।
  • 20 वर्षों (1922-42) तक उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की कार्यकारी समिति में सेवा की और 1937 से 1939 तक अपने गृह राज्य मद्रास (अब तमिलनाडु) के प्रधानमंत्री का पद संभला।

Summary

स्वतंत्र भारत के पहले और अंतिम भारतीय गवर्नर-जनरल कौन थे?

1947 में, माउंटबेटन को भारत का वायसराय नियुक्त किया गया और उन्होंने भारत और पाकिस्तान में ब्रिटिश भारत के विभाजन की देखरेख की थी। इसके बाद उन्होंने जून 1948 तक भारत के पहले गवर्नर-जनरल के रूप में कार्य किया। 1948 से 1950 तक सी. राजगोपालाचारी अंतिम गवर्नर-जनरल थे।

Related Links

Comments

write a comment

UPPSC

UP StateUPPSC PCSVDOLower PCSPoliceLekhpalBEOUPSSSC PETForest GuardRO AROJudicial ServicesAllahabad HC RO ARO RecruitmentOther Exams

Follow us for latest updates