सत्याग्रह के विचार का क्या मतलब है?

By Ritesh|Updated : January 13th, 2023

सत्याग्रह के विचार का मतलब है सत्य को ही अपनी शक्ति बना कर अन्याय के खिलाफ आवाज उठाना। सत्याग्रह सत्य की शक्ति में विश्वास है। महात्मा गांधी ने दक्षिण अफ्रीकी सरकार द्वारा काले लोगों के साथ किए जाने वाले व्यवहार का विरोध किया। हम बिना बल प्रयोग के उनका विरोध करेंगे, यह उनके विरोध का सिद्धांत था। उस समय से पहले लोग इस तरह के विरोध प्रदर्शनों से अनजान थे।

सत्याग्रह के विचार का मतलब

सत्याग्रह का विचार सामूहिक आंदोलन की एक अनूठी पद्धति को दर्शाता है जो सत्य की शक्ति और सत्य की खोज की आवश्यकता पर जोर देता है। यह इस विश्वास की पुष्टि करता है कि यदि कारण सही है और लड़ाई अन्याय के खिलाफ है, तो उत्पीड़क के खिलाफ शारीरिक बल या जबरदस्ती की कोई आवश्यकता नहीं है।

नमक सत्याग्रह आन्दोलन

भारत में हुआ नमक सत्याग्रह आन्दोलन गांधीजी के द्वारा 5 प्रमुख आन्दोलनों में से एक है जिसने देश की तस्वीर बदल दी। 12 मार्च 1930 को शुरू हुए इस आन्दोलन में गांधीजी ने ब्रिटिश राज के नमक पर एकाधिकार का विरोध था।

सत्याग्रह का क्या मतलब है?

सत्याग्रह एक अलग प्रकार का जन आंदोलन था। इसका अर्थ केवल इतना था कि यदि आपका लक्ष्य कल्याण और सत्य है, और आप संघर्ष के विरोधी हैं, तो अत्याचारी से लड़ने के लिए किसी शारीरिक बल या हथियार की आवश्यकता नहीं है।

सत्याग्रह कहता है कि किसी लक्ष्य की प्राप्ति उसी लक्ष्य से जुड़ी होती है। परिणामस्वरूप, अनुचित साधनों के माध्यम से न्याय या हिंसा के माध्यम से शांति प्राप्त करने के प्रयास असंगत हैं। उनका तर्क है कि "साधन आखिरकार साधन हैं," जैसा कि गांधी ने कहा था। अंत भला तो सब भला। गांधी की अद्वैत (अद्वैत) अवधारणा इस सिद्धांत पर आधारित है कि साधन और साध्य को अलग करने से अंततः द्वैतवाद और असंगति का परिचय होगा।

Summary:

सत्याग्रह के विचार का क्या मतलब है?

सत्याग्रह शब्द का शाब्दिक अर्थ है सत्य की शक्ति पर हुआ आग्रह। यह जरुरी नहीं है कि आप अपनी बात रखने के लिए हिंसा का सहारा लें। सर्वप्रथम गाँधी जी ने सत्याग्रह आन्दोलन दक्षिण अफ्रीका में नस्ल भेद के खिलाफ आवाज उठाने के लिए किया था।

Related Questions:

Comments

write a comment

Follow us for latest updates