सत्याग्रह के विचार का क्या मतलब है?

By Raj Vimal|Updated : August 25th, 2022

सत्याग्रह का अर्थ होता है सत्य की शक्ति पर आग्रह। महात्मा गाँधी ने दक्षिण अफ्रीका में अश्वेत लोगों पर हो रहे अत्याचार का विरोध किया। उनका विरोध का आधार था, हम बिना शस्त्र उठाये उनका विरोध करेंगे। उस समय से पहले लोगों को इस तरह के विरोध का पता नहीं था। सत्याग्रह के विचार का अर्थ है सत्य को ही अपनी शक्ति बना कर अन्याय के खिलाफ आवाज उठाना।

नमक सत्याग्रह आन्दोलन 

भारत में हुआ नमक सत्याग्रह आन्दोलन गांधीजी के द्वारा 5 प्रमुख आन्दोलनों में से एक है जिसने देश की तस्वीर बदल दी। 12 मार्च 1930 को शुरू हुए इस आन्दोलन में गांधीजी ने ब्रिटिश राज के नमक पर एकाधिकार का विरोध था।

सत्याग्रह का क्या मतलब है

सत्याग्रह जन आन्दोलन का एक अलग तरीका था। इसका एक मात्र अर्थ यह था कि अगर अपका उद्देश्य कल्याण का और सच्चा है और आप संघर्ष के खिलाफ हैं तो प्रताड़ना देने वाले से मुकाबला करने के लिए किसी शारीरिक बल या शस्त्र की आवश्यकता नहीं है।

Summary

सत्याग्रह के विचार का क्या मतलब है?

सत्याग्रह शब्द का शाब्दिक अर्थ है सत्य की शक्ति पर हुआ आग्रह। यह जरुरी नहीं है कि आप अपनी बात रखने के लिए हिंसा का सहारा लें। सर्वप्रथम गाँधी जी ने सत्याग्रह आन्दोलन दक्षिण अफ्रीका में नस्ल भेद के खिलाफ आवाज उठाने के लिए किया था।

Comments

write a comment

Follow us for latest updates