राष्ट्रीय वनीकरण और पर्यावरण विकास बोर्ड भारत सरकार द्वारा किस वर्ष में स्थपित किया गया था?

By Sakshi Yadav|Updated : August 23rd, 2022

राष्ट्रीय वनीकरण और पर्यावरण विकास बोर्ड (NAEB) भारत सरकार द्वारा अगस्त 1992 में, स्थपित किया गया था। ये देश में वनीकरण, वृक्षारोपण, पारिस्थितिक बहाली और पर्यावरण-विकास कार्यों को बढ़ावा देने के लिए स्थापित किया गया था। यह वन क्षेत्रों और आस-पास की भूमि, राष्ट्रीय उद्यानों, अभयारण्यों और अन्य संरक्षित क्षेत्रों के साथ-साथ पश्चिमी हिमालय, अरावली और पश्चिमी घाट जैसे पर्यावरणीय रूप को मज़बूत बनता है।

राष्ट्रीय वनीकरण और पारिस्थितिकी विकास बोर्ड क्या है?

  • राष्ट्रीय वनीकरण और पारिस्थितिकी विकास बोर्ड ने वनीकरण (afforestation) और प्रबंधन रणनीतियों को बढ़ावा देने के लिए विशिष्ट योजनाएं बनाई हैं।
  • यह राज्यों को विशिष्ट वनरोपण और प्रबंधन रणनीतियों के साथ-साथ पर्यावरण-विकास पैकेज विकसित करने में सहायता करता है।
  • राष्ट्रीय वनीकरण और पर्यावरण-विकास बोर्ड (एनएईबी) देश में वनीकरण (afforestation), वृक्षारोपण (tree planting), पारिस्थितिक बहाली (ecological restoration) और पर्यावरण-विकास गतिविधियों को बढ़ावा देता है। 
  • राष्ट्रीय वनीकरण और पर्यावरण विकास बोर्ड (NAEB) की एक प्रमुख पहल ये भी है की ये कार्यान्वयन एजेंसियों, वन विकास एजेंसियों (FDA) के निर्माण में सहायता प्रदान करती है।

Summary

राष्ट्रीय वनीकरण और पर्यावरण विकास बोर्ड भारत सरकार द्वारा किस वर्ष में स्थपित किया गया था?

अगस्त 1992 में राष्ट्रीय वनीकरण और पारिस्थितिकी विकास बोर्ड भारत सरकार द्वारा स्थपित किया गया था। इसका उदेश वनीकरण को बढ़ावा देने के लिए विशेष योजनाएँ और प्रबंधन तकनीकें बनाना हैं। यह अपमानित वन क्षेत्रों और पड़ोसी भूमि, साथ ही साथ राष्ट्रीय उद्यानों, अभयारण्यों और अन्य संरक्षित क्षेत्रों को पुनर्जीवित करने पर केंद्रित है।

Related Links:

Comments

write a comment

UPPSC

UP StateUPPSC PCSVDOLower PCSPoliceLekhpalBEOUPSSSC PETForest GuardRO AROJudicial ServicesAllahabad HC RO ARO RecruitmentOther Exams

Follow us for latest updates