मानक हिंदी का स्वरुप (Form of Standard Hindi in Hindi)

By Brajendra|Updated : November 17th, 2022

मानक हिंदी से तात्पर्य, खड़ी बोली से विकसित हुई और देवनागरी लिपि में लिखी जाने वाली उस मानक भाषा से है जिसे उच्च हिंदी या परिनिष्ठित हिंदी कहा जाता है। यही हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा, राजभाषा तथा संपर्क भाषा है। मानक हिंदी ही शिक्षा, प्रशासन, वाणिज्य, समाचार-पत्र, कला और संस्कृति की विभिन्न विधाओं के लिये आदान प्रदान का माध्यम है।

इस लेख में हम आपको मानक हिंदी का स्वरुप (Form of Standard Hindi) के बारे में सम्पूर्ण जानकारी उपलब्ध करा रहे हैं। उम्मीदवार नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करके मानक हिंदी का स्वरुप से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी का पीडीएफ़ हिंदी में डाउनलोड कर सकते हैं।

मानक हिंदी का स्वरुप (Form of Standard Hindi)

‘मानक भाषा’ किसी भाषा के उस स्वरूप को कहते हैं जो उस भाषा के पूरे क्षेत्र में शुद्ध माना जाता है तथा जिसे उस प्रदेश का शिक्षित और शिष्ट समाज अपनी भाषा का आदर्श रूप मानता है और प्रायः सभी औपचारिक परिस्थितियों में, लेखन , प्रशासन और शिक्षा, के माध्यम के रूप में हर संभव उसी भाषा को प्रयोग करता है।
आज हिंदी का जो मानक स्वरूप निर्धारित हो पाया है वह लगभग दस शताब्दियों का परिणाम है। सही स्तर पर यह प्रक्रिया भारतेंदु युग से प्रारंभ हुई थी। मानक हिंदी का मूल आधार ‘खड़ी बोली’ है। हिंदी की विभिन्न शैलियों एवं बोलियों में से एक ‘खड़ी बोली’ ने मानक हिंदी की ओर अग्रसर होने के क्रम में शब्दावली के स्तर पर विभिन्न स्रोतों का सहारा लिया है।
शिक्षा, प्रशासन, वाणिज्य, समाचार-पत्र, कला और संस्कृति की विभिन्न विधाओं के लिये आदान प्रदान का माध्यम मानक भाषा के बाहरी रूप या बहिरंग आयाम हैं। जबकि अंतरंग आयामों के अंतर्गत मानक हिंदी की भाषायी संरचना तथा व्याकरण व्यवस्था की दृष्टि से उसके स्वरूप को देख सकते हैं। इन्हीं आयामों के कारण हिंदी निरन्तर विकसित और परिष्कृत होती रही है।
भाषाओं को मानक रूप देने की भावना जिन कारणों से विश्व में जाग्रत हुई उनमें से कुछ प्रमुख कारण निम्नलिखित हैं :
1. सामाजिक आवाश्यकता
2. प्रेस का विकास और प्रसार
3. वैज्ञानिक दृष्टिकोण का विकास
4. सामाजिक एकरूपता का रूझान
5. स्व अस्मिता

अन्य महत्वपूर्ण लेख हिंदी में

लिविंग प्लेनेट रिपोर्ट 2022

 भारत का पहला स्लेंडर लोरिस अभ्यारण्य

 महाकाल लोक कॉरिडोर

 असमानता सूचकांक 2022

 नोबेल पुरुस्कार 2022

 वैश्विक टीबी रिपोर्ट 2022

भाषा का मानकीकरण

भाषा के मानकीकरण से तात्पर्य भाषा को एक मानक रूप प्रदान करना होता है।जिसमें भाषा के सभी विकल्पों में एक को मानक मान लिया गया हो तथा जिस भाषा रूप को उस भाषा के सारे बोलने वाले मानक भाषा के रूप में स्वीकार करते हों। विश्व की अधिकांश समुन्नत भाषाओं का मानक रूप होता है, जबकिअवभाषा (वर्नाक्यूलर), बोली आदि का मानक रूप नहीं होता है। मानकीकरण के कारण ही कोई भाषा अपने पूरे क्षेत्र में शब्दावली तथा व्याकरण की दृष्टि से समरुप मणि जाती है, इसीलिए वह सभी लोगों के लिए बोधगम्य भी होती है। साथ ही वह सभी लोगों द्वारा मान्य होती है अतः अन्य भाषा रूपों की तुलना में मानक भाषा अधिक प्रतिष्ठित भी होती है। भाषा की मानकता में निम्नांकित बातें शामिल होती हैं:

मानक हिंदी का स्वरुप PDF

  • भाषा की मानकता का आधार कोई व्याकरणिक या भाषावैज्ञानिक तथ्य अथवा नियम नहीं होते है। इसका मूल आधार सामाजिक स्वीकृति है। समाज विशेष के लोग भाषा के जिस रूप को अपनी मानक भाषा मान लें, उनके लिए वही मानक भाषा हो जाती है।
  • भाषा की मानकता का प्रश्न तत्त्वतः भाषाविज्ञान का न होकर समाज-भाषाविज्ञान होता है। भाषाविज्ञान भाषा की संरचना का अध्ययन करता है और संरचना मानक भाषा की भी होती है और अमानक भाषा की भी होती है। उसका इससे कोई संबंध नहीं कि समाज किसे शुद्ध मानता है और किसे नहीं। इस तरह मानक भाषा की संकल्पना को संरचनात्मक न कहकर सामाजिक कहना उपयुक्त होगा।
  • जब हम समाज विशेष से किसी भाषा-रूप के मानक माने जाने की बात करते हैं, तो समाज से आशय होता है सुशिक्षित और शिष्ट लोगों का वह समूह जो पूरे भाषा-भाषी क्षेत्र में प्रभावशाली एवं महत्त्वपूर्ण माना जाता है। वस्तुतः उस भाषा-रूप की प्रतिष्ठा उसके उन महत्त्वपूर्ण प्रयोक्ताओं पर ही आधारित होती है। दूसरे शब्दों में उस भाषा के बोलनेवालों में यही वर्ग एक प्रकार से मानक वर्ग होता है।
  • समाज द्वारा मान्य होने के कारण भाषा के अन्य प्रकारों की तुलना में मानक भाषा की अधिक प्रतिष्ठित होती है। इस तरह मानक भाषा सामाजिक प्रतिष्ठा का प्रतीक है।
  • सामान्यत- मानक भाषा मूलतः किसी देश की राजधानी या अन्य दृष्टियों से किसी महत्त्वपूर्ण केन्द्र की बोली होती है, जिसे राजनीतिक अथवा धार्मिक अथवा सामाजिक कारणों से प्रतिष्ठा और स्वीकृति प्राप्त हो जाती है।
  • बोली का प्रयोग अपने क्षेत्र तक सीमित रहता है, किंतु मानक भाषा का क्षेत्र अपने मूल क्षेत्र के भी बाहर अन्य बोली-क्षेत्रों में भी किया जाता है।
  • यदि किसी भाषा का रूप मानक है तो साहित्य में, शिक्षा के माध्यम के रूप में, अंतःक्षेत्रीय प्रयोग में तथा सभी औपरचारिक परिस्थितियों में उस मानक रूप का ही प्रयोग होता है, अमानक रूप या बोली आदि का प्रयोग नहीं होता है।
  • किसी भाषा के बोलने वाले अन्य भाषा-भाषियों के साथ प्रायः उस भाषा के मानक रूप का ही प्रयोग करते हैं, बल्कि किसी बोली का अथवा अमानक रूप का उपयोग नहीं करते हैं।

 

Related Links:

Current Affairs UP State Exam
Current Affairs Bihar State Exam

Comments

write a comment

मानक हिंदी का स्वरुप FAQs

  • मानक हिंदी से तात्पर्य, खड़ी बोली से विकसित हुई और देवनागरी लिपि में लिखी जाने वाली उस मानक भाषा से है जिसे उच्च हिंदी या परिनिष्ठित हिंदी भी कहा जाता है। यही हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा, राजभाषा तथा संपर्क भाषा है। तथा सम्प्रेषण का माध्यम भी है। 

  • मानक भाषा का अर्थ हिन्दी भाषा के उस स्थिर रूप से है जो अपने पूरे क्षेत्र में शब्दावली तथा व्याकरण की दृष्टि से समरूप है। इसलिए वह सभी लोगों द्वारा मान्य है, सभी लोगों द्वारा सरलता से समझी जा सकती है। अन्य भाषा रूपों के मुकाबले वह अधिक प्रतिष्ठित मानी जाती है। 

  • मानक भाषा हिंदी के अंतर्गत पाँच बोलियाँ खड़ी बोली, हरियाणवी , ब्रज, कन्नौजी और बुंदेली आती हैं। 

  • जब एक निश्चित बोली लिखित रूप में उपयोग की जाने लगती है और उसका क्षेत्र ब्यापक हो जाता है। तब मानक भाषा उत्पन्न होती हैं। और वह प्रशासनिक मामलों, साहित्य और आर्थिक जीवन आदि भाषाई क्षेत्रों में उपयोग होने लगती है।

UPPSC

UP StateUPPSC PCSVDOLower PCSPoliceLekhpalBEOUPSSSC PETForest GuardRO AROJudicial ServicesAllahabad HC RO ARO RecruitmentOther Exams

Follow us for latest updates