केंद्रीय सहकारी बैंक की स्थापना किस स्तर पर हुई थी?

By Sakshi Yadav|Updated : August 31st, 2022

केंद्रीय सहकारी बैंकों की स्थापना स्वतंत्रता पूर्व अवधि (1947 से पहले) जिले स्तर पर हुई थी। भारतीय सहकारी बैंक भी भारतीय समाज में व्याप्त संकट में शुरू हुए थे। सहकारी ऋण समितियाँ अधिनियम, 1904 ने ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों में सहकारी ऋण समितियों के गठन का नेतृत्व किया गया और ये अधिनियम सर फ्रेडरिक निकोलसन (1899) और सर एडवर्ड लॉ (1901) की सिफारिशों पर आधारित था।

केंद्रीय सहकारी बैंक क्या है?

भारत में सहकारी बैंक बैंकिंग अधिनियम 1949 और बैंकिंग कानून (सहकारी समितियां) अधिनियम, 1955 के अनुसार शासित होते हैं। ये बैंक 'नो-प्रॉफिट-नो-लॉस' के सिद्धांत के साथ खोले गए हैं। इसका गठन समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के उत्थान को बढ़ावा देने के लिए किया गया था।

भारत की प्रमुख सहकारी बैंकिंग संस्थाएँ

सहकारी बैंक

स्थापना वर्ष

सारस्वत सहकारी बैंक लि.

1918

कॉसमोस सहकारी बैंक लि.

1906

शामराव विठल सहकारी बैंक लि.

1906

अभ्युदय सहकारी बैंक लि.

1964

भारत सहकारी बैंक (मुम्बई) लि.

1978

ठाणे जनता सहकारी बैंक

1972

पंजाब और महाराष्ट्र सहकारी बैंक

1984

जनता सहकारी बैंक

1949

कालूपुर सहकारी बैंक

1970

NKGSB सहकारी बैंक

1917

Summary

केंद्रीय सहकारी बैंक की स्थापना किस स्तर पर हुई थी?

सबसे पहले जिले स्तर पर केंद्रीय सहकारी बैंक की स्थापना हुई थी। केंद्रीय सहकारी बैंक की स्थापना का मुख्य उद्देश्य कृषि एवं ग्रामीण क्षेत्र के लिए अधिक साख-सुविधाएं (credit) उपलब्ध कराना है। अतः ये संस्थाएं भी वित्तीय समावेशन में सहायक है।

Related Links:

Comments

write a comment

UPPSC

UP StateUPPSC PCSVDOLower PCSPoliceLekhpalBEOUPSSSC PETForest GuardRO AROJudicial ServicesAllahabad HC RO ARO RecruitmentOther Exams

Follow us for latest updates