इसरो ने किया हाइब्रिड मोटर का सफल परीक्षण

By Brajendra|Updated : September 21st, 2022

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने एक हाइब्रिड मोटर का सफल परीक्षण किया है। इससे रॉकेटों के प्रक्षेपण की नई तकनीक का रास्ता साफ हो गया है। भावी प्रक्षेपण यानों के लिए नई प्रणोदन प्रणाली (new propulsion system) का इस्तेमाल किया जा सकेगा।

Table of Content

इसरो ने किया हाइब्रिड मोटर का सफल परीक्षण

  • तमिलनाडु के महेंद्रगिरि में इसरो प्रोपल्शन कॉम्प्लेक्स (IPRC) में 30 केएन नई हाईब्रिड मोटर का परीक्षण किया गया।
  • इस परीक्षण में इसरो के Liquid Propulsion Systems Centre (द्रव नोदन प्रणाली केंद्र) ने भी सहयोग किया।
  • इस हाइब्रिड मोटर में हाइड्रॉक्सिल-टर्मिनेटेड पॉलीब्यूटाडाइन का ईंधन के रूप में और तरल ऑक्सीजन का ऑक्सीडाइजर के रूप में इस्तेमाल किया गया।
  • ठोस-ठोस या तरल-तरल समिश्रण के विपरीत हाइब्रिड मोटर ठोस ईंधन और तरल ऑक्सीकारक का इस्तेमाल करती है।
  • ऑक्सीडाइज़र एक रसायन है जो ईंधन को जलाने के लिए आवश्यक है। चूंकि अंतरिक्ष में कोई वायुमंडल नहीं है, रॉकेट को अपना ईंधन और अपने स्वयं के ऑक्सीडाइज़र दोनों ले जाने पड़ते हैं।
  • ठोस ईंधन रॉकेट में सबसे आम ईंधन एल्यूमीनियम है।
  • एल्युमीनियम को जलाने के लिए, ठोस ईंधन रॉकेट ऑक्सीडाइज़र (ऑक्सीकारक) के रूप में अमोनियम परक्लोरेट का उपयोग करते हैं।
  • तरल ईंधन इंजन तरल ऑक्सीजन और तरल हाइड्रोजन से बने होते हैं।
    तरल हाइड्रोजन ईंधन है और तरल ऑक्सीजन ऑक्सीकारक का कार्य करती हैं।

इसरो ने किया हाइब्रिड मोटर का सफल परीक्षण - Download PDF

उम्मीदवार नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके इसरो ने किया हाइब्रिड मोटर का सफल परीक्षण नोट्स हिंदी में डाउनलोड कर सकते हैं। इसके अलावा, हमने इसे बेहतर तरीके से समझने के लिए आपकी सुविधा के लिए वीडियो भी उपलब्ध कराया है।

सम्पूर्ण नोट्स के लिए PDF हिंदी में डाउनलोड करें
⇒ इसरो ने किया हाइब्रिड मोटर का सफल परीक्षण विडियो विश्लेषण देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

Other Important Articles

G20 Summit

SCO Summit 2022

PM PRANAM Yojna

Mobile Banking Malware SOVA Virus

Project Cheetah

Pradhan Mantri TB Mukt Abhiyan Yojna

 

Comments

write a comment

Follow us for latest updates