हिमालय का निर्माण कैसे हुआ?

By Raj Vimal|Updated : August 29th, 2022

वैज्ञानिकों के अनुसार पृथ्वी पर पहले छोटी-छोटी कई प्लेटें थीं। यह प्लेटें जुड़कर महाद्वीपों की संरचना होता है। पृथ्वी के बड़े प्लेटों से टकरा कर वह हिमालय पर्वत का निर्माण हुआ है। इसके पीछे का विज्ञान यह है कि दो प्लेटों के टकराने से उस स्थान पर इतना दबाब पैदा होता है कि उससे स्थल पर बड़ी और ऊँची पर्वत श्रृंखलायें बन जाती हैं।

हिमालय पर्वत का निर्माण

हिमालय पर्वत के अस्तित्व के स्थान पर कभी टेथिस नाम का सागर हुआ करता था। टेथिस सागर गोंडवाना लैंड और अंगारलैंड नामक भूभाग के बीच स्थित था। यह दोनों ही भू भाग करीब आते रहे और टकराने के कारण वहां मिट्टी, कन्कड, आदि एक वलय कारी पर्वत का निर्माण हुआ। ये वलय द्वीपों की एक श्रृंखला के रूप में पानी की सतह् से ऊपर आ गए। आगे चल कर यही वलयकारी पर्वत को आज हम हिमालय के नाम से जानते हैं।

Summary 

हिमालय का निर्माण कैसे हुआ?

हिमालय के निर्माण का कारण पृथ्वी के दो बड़े भू-भाग प्लेटों का आपस में टकराना है। पृथ्वी पर मौजूद गोंडवाना लैंड और अंगारलैंड भूभाग धीरे-धीरे करीब आते रहे और फिर एक जोरदार टक्कर से उसमें मौजूद मिट्टी एक पर्वत बन गया।

Comments

write a comment

Follow us for latest updates