चेहरे अनेक किसकी आत्‍मकथा है?

By Raj Vimal|Updated : August 31st, 2022

चेहरे अनेक उप्रेंद नाथ अश्क की आत्मकथा है। इस प्रसिद्ध आत्मकथा का पहला भाग नीलाभ प्रकाशन ने साल 1977 में पब्लिश किया था। इस किताब में संस्मरण और सहितियिक से सम्बन्ध रखने वाले लेखकों की जीवनी है। आत्मकथा किसी लेखक द्वारा अपने जीवन का वर्णन करते हुए लिखी गयी किताब होती है।

हमने कुछ प्रसिद्ध लोगों द्वारा लिखे गए आत्मकथाओं की जानकारी दी है। इनसे जुड़े सवाल सामान्यत: प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाते हैं।

  • जवाहर लाल नेहरु के द्वारा लिखी गयी पुस्तक नाम टूवार्ड फ्रीडम था।
  • महात्मा गांधी ने अपनी आत्मकथा सत्य के प्रयोग लिखी है।
  • पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम की आत्मकथा का नाम छुआ आसमान है।
  • दयानंद सरस्वती के द्वारा लिखी गयी पुस्तक का नाम कुछ आप बीती कुछ जग बीती था। 

Summary

चेहरे अनेक किसकी आत्‍मकथा है?

उपेन्द्र नाथ अश्क की आत्मकथा का नाम चेहरे अनेक हैं। इस किताब के उन्होंने अपने जीवन से जुड़े संस्मरण साझा किये हैं। मुख्य तौर पर यह किताब उनके द्वारा बताये गए सहितियिक सम्बन्ध की बातों पर है।

Comments

write a comment

Follow us for latest updates