बिहार का शोक किस नदी को कहा जाता है?

By K Balaji|Updated : December 3rd, 2022

बिहार का शोक कोसी नदी को कहा जाता है| ऐसा इसलिए है क्यूंकि हर वर्ष इस नदी की बाढ़ लगभग 21,000 किमी 2 (8,100 वर्ग मील) उपजाऊ कृषि भूमि को प्रभावित करती है। इस कारण से ग्रामीण अर्थव्यवस्था को कठिनाईयों का सामना करना परता है| कोसी नदी तिब्बत, भारत और नेपाल से होकर बहती है और इस नदी के जलग्रहण क्षेत्र में छह भूवैज्ञानिक और जलवायु क्षेत्र शामिल हैं। बाढ़ के वार्षिक प्रभावों के कारण कोसी नदी को "बिहार का शोक" कहा जाता है।

बिहार का शोक नदी

कोसी नदी, बिहार की शोक नदी, लगभग 720 किमी लंबी है और तिब्बत, नेपाल और बिहार में लगभग 74,500 वर्ग किमी के क्षेत्र में बहती है। अधिक वर्षा होने के कारण यह नदी बिहार में बाढ़ लाती है जिस से की यह राज्य प्रभावित हो जाता है| बाढ़ के कारण से कृषि भूमि प्रभावित होती है और ग्रामीण अर्थव्यवस्था भी नष्ट हो जाती है। कोसी नदी के कारण आई बाढ़ लगभग 21,000 वर्ग किमी के क्षेत्र को प्रभावित करती है। कोशी नदी को बिहार का शोक कहने के कारण कुछ इस प्रकार से हैं:

  • कोशी का औसत जल प्रवाह लगभग 2,166 घन मीटर प्रति सेकंड या 76,500 घन फीट/सेकंड है।
  • बाढ़ के दौरान प्रवाह औसत से लगभग 18 गुना बढ़ जाता है।
  • इसका उच्चतम रिकॉर्ड की गई बाढ़ 24,200 m3/s या 850,000 cu ft/s सन्न 1954 में 24 अगस्त को था|
  • कोशी बैराज को 27,014 m3/s या 954,000 cu ft/s की चरम बाढ़ के लिए डिज़ाइन किया गया है।
  • कोशी के जलोढ़ पंखे में दुनिया के एक हिस्से में उपजाऊ मिट्टी और प्रचुर मात्रा में भूजल है जहां कृषि भूमि की बहुत मांग है।
  • कोशी उपजाऊ मिट्टी के जलोढ़ बेसिन और प्रचुर मात्रा में भूजल जहां कृषि भूमि की बहुत मांग है और बाढ़ इन सभी जलोढ़ घाटियों को नष्ट कर देती है।

Summary:

बिहार का शोक किस नदी को कहा जाता है?

कोसी नदी को बिहार की शोक नदी कहा जाता है। हर साल, अत्यधिक वर्षा के कारण, यह बाढ़ लाती है जो बिहार के लोगों की कृषि और आजीविका को नष्ट कर देती है। साथ में लगभग 21,000 किमी² (8,100 वर्ग मील) उपजाऊ कृषि भूमि हर साल इस नदी से प्रभावित होती है।

Related Questions:

Comments

write a comment

Featured Articles

Follow us for latest updates