भर्जन किसे कहते हैं?

By Raj Vimal|Updated : August 31st, 2022

रसायन शास्त्र की वह रासायनिक क्रिया जिसमें अयस्क हवा की उपस्थिति में उसके गलनांक से नीचे के ताप पर गर्म किये जाते है, भर्जन कहलाती है। इस क्रिया को करने के दौरान S (सल्फर) और As (आर्सेनिक) जैसे तत्व भाप बन कर अशुद्ध ऑक्साइडों के रूप में अलग हो जाती हैं। उदाहरण के लिए S + O2 → SO2 ↑।

निस्तापन तथा भर्जन में क्या अंतर है?

निस्तापन की क्रिया में भर्जन की प्रक्रिया को वायु के अनुपस्थिति में किया जाता है। निस्तापन और भर्जन की क्रिया में यही मुख्य अंतर है। निस्तापन की क्रिया का उपयोग ऑक्साइड, हाइड्रोक्साइड को अयस्कों में बदलने के लिए किया जाता है। इन अंतरों के अलावा कुछ अंतर नीचे टेबल में है।

भर्जन

निस्तापन

अयस्कों की नमी बाहर नहीं निकलती।

अस्यकों की नमी बाहर निकलती है। 

इस क्रिया में कार्बन डाईऑक्साइड बाहर निकलता है। 

भर्जन की क्रिया में धातु और अम्ल योगिक बाहर निकलते हैं।

Summary

भर्जन किसे कहते हैं?

भर्जन की क्रिया में वायु की उपस्थिति अयस्क को उसके गलनांक से नीचे के ताप पर गर्म किया जाता है।इस रासायनिक प्रक्रिया में अस्यकों के भीतर मौजूद नमी नहीं निकलती है।

Related Articles

Comments

write a comment

Follow us for latest updates