भारत का नेपोलियन किसे कहा जाता है?

By K Balaji|Updated : December 26th, 2022

समुद्रगुप्त को भारत का नेपोलियन कहा जाता है। यह उपाधि उन्हें इतिहासकार ए वी स्मिथ द्वारा दी गयी है क्यूंकि वह एक वीर योद्धा, साहसी, पराक्रमी तथा निर्भीक शासक थे। समुद्रगुप्त गुप्ता वंश के दूसरे शासक थे जिनके पिताजी चंद्रगुप्त प्रथम थे और माताजी कुमारदेवी थीं। उन्होंने अश्वमेध यज्ञ किया था और वे एक अच्छे कवि और संगीतकार भी थे। उन्होंने उत्तरी राज्यों पर विजय प्राप्त की थी और साथ में दक्षिणी राजाओं को अपनी संप्रभुता स्वीकार करने के लिए मजबूर भी किया था। समुद्रगुप्त के दरबारी कवि हरिसेन थे।

भारत का नेपोलियन

समुद्रगुप्त का नेपोलियन कहा जाता है जो की चन्द्रगुप्त प्रथम के पुत्र थे एवं कुमारी देवी इनकी माता थीं। चंद्रगुप्त की मृत्यु के बाद समुद्रगुप्त ने शाषण किआ और बेहद उम्दा तरीके से किआ जिसके कारण उन्हें नेपोलियन की उपाधि इतिहासकार ए वी स्मिथ ने दिए। आइये जानते हैं समुद्रगुप्त से जुडी कुछ महत्वपूर्ण बातें।

  • समुद्रगुप्त का सैन्य अभियान व्यापक बताया जाता है।
  • उसने अपने शासनकाल के दौरान बंगाल और नेपाल जैसे कई राज्यों पर विजय प्राप्त करके शासन किया, जिसने उसे अपने राज्य को एकजुट करने की अनुमति दी। इसके अतिरिक्त, असम को शुल्क का भुगतान करने के लिए मजबूर किया गया था।
  • इसके बाद उन्होंने मालवासा, यौधेय, अर्जुनया, मधुरासा और अभिरस के आदिवासी राज्यों को अपने अधीन करने के लिए एक बड़ी सेना का इस्तेमाल किया।
  • मध्य एशिया, अफगानिस्तान और पूर्वी ईरान के शासकों ने बाद में शक और खुशनक जैसे विदेशी राज्यों को अपने साम्राज्य में शामिल कर लिया।
  • समुद्रगुप्त ने इस तरह से एक बड़े राज्य का निर्माण किया, जिससे उन्हें "भारत का नेपोलियन" उपनाम मिला।
  • कवि हरिषेण ने इलाहाबाद स्तंभ शिलालेख (प्रयाग-प्रशस्ति) पर अपनी उपलब्धियों का एक विस्तृत विवरण अंकित किया है, जो संस्कृत में लिखा गया है।

Summary:

भारत का नेपोलियन किसे कहा जाता है?

भारत का नेपोलियन समुद्रगुप्त को कहा जाता है। अपने शाषणकाल में उन्होंने कई राज्यों को अपनी विशाल सेना की मदद से अपने वश में युद्ध जीतकर कर लिया था इन्ही कारणों से इन्हे ए वी स्मिथ ने उन्हें भारत का नेपोलियन कहा। इनके अभियानों का उल्लेख एरण अभिलेख (मध्य प्रदेश) में पाया जाता है।

Related Questions:

Comments

write a comment

Follow us for latest updates