भारत के प्रथम गवर्नर जनरल कौन थे?

By Ritesh|Updated : January 6th, 2023

भारत का पहला गवर्नर जनरल विलियम बैंटिक थे। 31 दिसंबर, 1600 की ईस्ट इंडिया कंपनी ने रानी एलिज़ाबेथ से एक रॉयल चार्टर प्राप्त हुआ जिसके बाद भारतवर्ष में एक व्यापारिक इकाई के रूप में ब्रिटिश शासन शुरू हो गया। इसके करीब 300 वर्ष पश्चात् देखते ही देखते वह एक व्यापारिक शक्ति से सबसे बड़ी राजनीतिक शक्ति तब्दील हो गया। 

इसी के चलते जो पदनाम पहले बंगाल के गवर्नर-जनरल (Governor-General of Bengal) के रूप में था, पूरे भारत पर स्थापत्य होने के बाद चार्टर एक्ट 1833 द्वारा बदलकर ‘भारत का गवर्नर-जनरल’ (Governor-General of India) हो गया और भारत का प्रथम गवर्नर जनरल विलियम बैंटिक (William Bentinck) बनाया गया। यह पद मुख्य रूप से प्रशासनिक उद्देश्यों के लिये था और इसे ईस्ट इंडिया कंपनी के कोर्ट ऑफ डायरेक्टर्स को रिपोर्ट करना था।

प्रथम गवर्नर जनरल के महत्वपूर्ण तथ्य

ब्रिटेन एक छोटा सा द्वीपीय देश था परन्तु इसके बावजूद उसने सम्पूर्ण दुनिया में अपने आप को सबसे साम्राज्य के रूप में स्थापित कर लिया था। उसे संसार की सबसे बड़ी राजनीतिक शक्ति कहा लगा। भारत में करीब 300 वर्षों ब्रिटिश शासन काल रहा। भारत में उसने ब्रिटिश गवर्नर-जनरल और वायसराय के माध्यम से नियंत्रण स्थापित किया। भारत के पहले गवर्नर-जनरल विलियम बैंटिक (William Bentinck) थे।

उन्हें भारत में महत्वपूर्ण सामाजिक और शैक्षिक सुधारों का श्रेय दिया जाता है, जिसमें सती प्रथा का उन्मूलन, वाराणसी के घाटों पर महिलाओं के दाह संस्कार पर रोक, और कन्या भ्रूण हत्या और मानव बलि का दमन शामिल है। बेंटिंक प्रधान मंत्री विलियम बेंटिक, पोर्टलैंड के तीसरे ड्यूक और बकिंघमशायर की लेडी डोरोथी के दूसरे बेटे थे।

भारत के अन्य प्रथम पदाधिकारी

तत्कालीन भारत के अन्य मुख्य पदाधिकारी निम्न हैं

  • बंगाल का गवर्नर-जनरल (1773-1833)- सर्वप्रथम जब ब्रिटिश भारत में आए तो बंगाल पर अपना नियंत्रण स्थापित किया। इसके लिए उन्होंने ‘बंगाल के गवर्नर’ (Governor of Bengal) के रूप में ‘रॉबर्ट क्लाइव’ (Robert Clive) को नियुक्त किया। 
  • भारत का गवर्नर-जनरल (1833-58)- भारत के पहले गवर्नर-जनरल विलियम बैंटिक (William Bentinck) थे।
  • वायसराय (1858-1947) - लॉर्ड कैनिंग (Lord Canning) को ईस्ट इंडिया कंपनी ने भारत के पहले वायसराय के रूप में चुना था।

☛ Related Questions:

Comments

write a comment

FAQs on भारत के प्रथम गवर्नर जनरल

  • भारत के सर्वप्रथम गवर्नर जनरल थे विलियम बैंटिक। इस पद का नाम पहले गवर्नर-जनरल (Governor-General of Bengal) थे परन्तु ब्रिटिश सरकार द्वारा चार्टर एक्ट 1833 के बाद यह पदनाम पुनः बदलकर ‘भारत का गवर्नर-जनरल’ (Governor-General of India) कर दिया गया और आगे भी इसी नाम से जाना गया।

  • लॉर्ड कैनिंग (Lord Canning) को ईस्ट इंडिया कंपनी ने भारत के पहले वायसराय के रूप में चुना था। भारत सरकार अधिनियम 1858 (Government of India Act 1858) पारित हुआ जिसने भारत के गवर्नर जनरल का नाम बदलकर ‘भारत का वायसराय’ कर दिया।

Follow us for latest updates