अभ्रक बिहार के किस जिले में पाया जाता है?

By K Balaji|Updated : December 3rd, 2022

अभ्रक(Mica) बिहार के गया और मुंगेर जिले में पाया जाता है। दरअसल, अभ्रक बिहार के गया जिले से हजारीबाग, मुंगेर तथा भागलपुर जिले तक लगभग ९० मील की लंबाई और १२-१६ मील की चौड़ाई में फैली हुई है और इसका सर्वाधिक उत्पादक क्षेत्र कोडरमा तथा आसपास के क्षेत्रों में सीमित है। बिहार 3381 टन अभ्रक उत्पादन के साथ भारत में तीसरे स्थान पर आता है। जबकि अभ्रक उत्पादन में आंध्र प्रदेश पहले और राजस्थान दूसरे स्थान पर है।

बिहार जिले में अभ्रक

अभ्रक भारत में उत्पादित अधात्विक खनिजों में से एक है। इसका मुख्य रूप से औद्योगिक क्षेत्रों में महत्व है; इसका उपयोग सीमेंट, उर्वरक, बिजली की चीजों आदि जैसी वस्तुओं के उत्पादन में कच्चे माल के रूप में किया जाता है। अभ्रक आग्नेय, अवसादी और कायांतरित चट्टानों के भंडार में पाया जाता है।

गया और नवादा बिहार में अभ्रक उत्पादन के लिए जाने जाने वाले प्रमुख जिले हैं; यह देश के उत्पादन का लगभग 9 प्रतिशत है। भारत में अन्य अभ्रक उत्पादक राज्य हैं- मध्य प्रदेश, गुजरात, छत्तीसगढ़, केरल, तमिलनाडु और उत्तर प्रदेश।

भारत में अभ्रक की तीन मुख्य किस्मों-मस्कोवाइट, फ्लॉगोपाइट और बायोटाइट के भंडार हैं। माना जाता है कि भारत में इन-सीटू भंडार के रूप में 59,065 टन अभ्रक का विशाल भंडार मौजूद है। हालाँकि, तकनीकी प्रगति की कमी के कारण, भारत शीर्ष अभ्रक उत्पादक देशों की सूची में 8वें स्थान पर है।

Summary:

अभ्रक बिहार के किस जिले में पाया जाता है?

अभ्रक दक्षिण पूर्व बिहार में गया(सबसे अधिक मात्रा में यहाँ पाया जाता है), मुंगेर, नवादा, जमुई, मुजफ्फरपुर जिलों में पाया जाता है। अभ्रक सिलिकेट खनिजों का एक समूह है जिसकी विशेषता यह है कि अभ्रक क्रिस्टल को आसानी से अत्यंत पतली लोचदार प्लेटों में विभाजित करता है।इसका उपयोग इलेक्ट्रॉनिक्स उद्योग में बहुत ज्यादा किया जाता है। बिहार अभ्रक उत्पादन में आगे रहा है। 

Related Questions:

Comments

write a comment

Featured Articles

Follow us for latest updates